मुख्य समाचार:
  1. भारतीय रिजर्व बैंक ने नहीं घटाया रेपो रेट

भारतीय रिजर्व बैंक ने नहीं घटाया रेपो रेट

भारतीय रिजर्व बैंक ने आज लगातार तीसरी बार मुख्य नीतिगत दर :रेपो रेट: को छह प्रतिशत पर कायम रखा है।

February 7, 2018 4:04 PM
भारतीय रिजर्व बैंक, आरबीआई, उर्जित पटेल, रेपो रेट, सस्ता घर दिसंबर की द्विमासिक मौद्रिक समीक्षा में महंगाई बढ़ने के आसार के मद्देनजर मानक ब्याज दर रपो को यथावत रखा था

भारतीय रिजर्व बैंक ने आज लगातार तीसरी बार मुख्य नीतिगत दर :रेपो रेट: को छह प्रतिशत पर कायम रखा है। रिजर्व बैंक गवर्नर उर्जित पटेल की अगुवाई वाली मौद्रिक नीति समिति :एमपीसी: ने इससे पहले पिछले साल अगस्त में रेपो दर को 0.25 प्रतिशत घटाकर छह प्रतिशत किया था। यह इसका छह साल का निचला स्तर है। उसके बाद से केंद्रीय बैंक ने नीतिगत दर में बदलाव नहीं किया है।

दिसंबर की द्विमासिक मौद्रिक समीक्षा में महंगाई बढ़ने के आसार के मद्देनजर मानक ब्याज दर रपो को यथावत रखा था। हालांकि केंद्रीय बैंक ने कहा था कि भविष्य में ब्याज दर में कटौती का विकल्प खुला है। रेपो वह दर है जिस पर केंद्रीय बैंक वाणिज्यिक बैंकों को उनकी फौरी जरूरत के लिए नकद-धन उधार देता है। इसके बढ़ने से बैंकों के धन की लागत बढ़ जाती है और इसका असर उनके कर्ज की दरों पर पड़ता है।

दिसंबर में खुदरा मुद्रास्फीति केंद्रीय बैंक के संतोषजनक स्तर को लांघकर 5.21 प्रतिशत पर पहुंच गई थी। नवंबर में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित खुदरा मुद्रास्फीति 4.88 प्रतिशत रही थी। दिसंबर, 2015 में यह 3.41 प्रतिशत पर थी। रिजर्व बैंक ने कहा कि वित्तीय बाजारों में उतार-चढ़ाव अमेरिकी फेडरल रिजर्व की मौद्रिक नीति के सामान्यीकरण की गति को लेकर अनिश्चितता की वजह से है। साथ ही आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल ने कहा कि  राजकोषीय रुख में कोई बदलाव फर्क रिजर्व बैंक के लिए चुनौती ज्यादा बढ़ा देगा। साथ ही आरबीआई गवर्नर ने कहा कि पूंजी पर पांच प्रकार के कर हैं जिनका निवेश पर असर पड़ेगा।

  1. No Comments.

Go to Top