मुख्य समाचार:
  1. चीन ने बैन किए ऑडी, मर्सीडीज, फॉक्सवैगन के 553 मॉडल, वजह जानकर खुश हो जाएंगे आप

चीन ने बैन किए ऑडी, मर्सीडीज, फॉक्सवैगन के 553 मॉडल, वजह जानकर खुश हो जाएंगे आप

चीन ने ऑडी, मर्सीडीज, फॉक्सवैगन जैसी दिग्गज ऑटो कंपनीयों के कुछ मॉडल अपने देश में बैन कर दिए हैं। 2018 बड़ी ऑटोमोबाइल कंपनियों के लिए बुरी खबर लेकर आया।

January 3, 2018 5:13 PM
audi, mercedez, volkswagon, auto news, auto news in hindi चीन वायू प्रदूषण की सम्सया को लेकर काफी संवेदनशील है।

चीन ने ऑडी, मर्सीडीज, फॉक्सवैगन जैसी दिग्गज ऑटो कंपनीयों के कुछ मॉडल अपने देश में बैन कर दिए हैं। 2018 बड़ी ऑटोमोबाइल कंपनियों के लिए बुरी खबर लेकर आया। क्योंकि चीन ने इन ब़ड़ी कंपनियों के 553 मॉडल की प्रोडक्शन बैन कर दिया है। चाइनीज रेगुलेटर्स ने एमीशन स्टेंडकर्ड यानी गाड़ियों से निकलने वाले धुएं से संबधित कुछ कानूनों में बदलाव करते हुए उन्हें और सख्त कर दिया था। दिसंबर में हुए कानून में इस बदलाव के बाद ऑडी, मर्सीडीज, फॉक्सवैगन समेत कई अन्य गाड़ियों के वर्तमान मॉडल इस कानून के तहत फिच नहीं पाए गए थे, जिसके बाद चीन ने इनके प्रोडक्शन पर बैन लगा दिया था। चीन के इस कदम ने उसकी ईको फ्रेंडली गाड़ियों की तरफ झुकी मानसिकता को बड़े साफ तौर पर उजागर किया है।

हालांकि बैन के बारे में ये साफ तौर पर कुछ नहीं कहा जा सकता कि इन गाड़ियों के प्रोडक्शन पर कब और कैसे बैन हटेगा। बहरहाल कंपनियों को ही अपने इजंन में कुछ बदलाव में करने पड़ेंगे तभी ये समस्या हल हो पाएगी। चीन वायू प्रदूषण की सम्सया को लेकर काफी संवेदनशील है। इसी के चलते अब चीन हाइब्रिड और इलेक्ट्रक कारों की तरफ रुख कर रहा है। इसी के चलते चीन हाल में इवेक्ट्रिक वाहनों पर साल 2020 तक टैक्स क्रेडिट बढ़ा दिए थे। इसी के चलते चीन में इलेक्ट्रिक वाहनों की मार्केट में लगभग 50 फीसदी का उछाल देखने को मिला है।

553 मॉडल के बैन होने से चीन में फैली प्रदूषण की समस्या कुछ हद तक ही सॉल्व होगी। लिहाजा जिस तरीके से चीन इस मुद्दे को लेकर सवेंदनशील है, उसे देखकर लगता है कि, चाइनीज अथॉरिटी और भी वाहनों पर बैन लगा सकती है। यहां तक की चान फ्रांस और यूके की तर्ज पर 2040 तक पेट्रोल, डीजल से चलने वाली गाड़ियों पर पूरी तरह प्रतिंबध लगा सकता है। आने वाले समय में इलेक्ट्रिक वाहनों की बढ़ती मांग को देखते हुए कंपनियां भी अभी से इलेक्ट्रिक वाहनों पर ध्यान देना शुरु कर चुकी है।

  1. No Comments.

Go to Top